BREAKING NEWS

इनको मिल सकती है गाजीपुर भाजपा जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी

प्रेम शंकर मिश्र

गाजीपुर– 2019 के लोकसभा चुनाव के गाजीपुर में परिणाम आने के बाद भाजपा का सियासी समीकरण बिगड़ने लगा था जिसका कारण एक संगठन द्वारा परशुराम चौराहे को लेकर मुखर विरोध करना था जिसको साधने के लिए जिला हाईकमान द्वारा उपेक्षित समूह को जिलाध्यक्ष बनाकर उसकी भरपाई करना है निवर्तमान जिला अध्यक्ष क्षत्रिय होने के नाते पुनः इस जाति को जिले पर अध्यक्ष पद मिलना नामुमकिन है ऐसा एक वरिष्ठ भाजपा कार्यकर्ता ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया ऐसे में जो बचता है उसमें एक अरविंद प्रजापति और दूसरा ओम प्रकाश राम जो जिले का कोई चर्चित व्यक्तित्व नहीं है लोगों द्वारा कयास लगाया जा रहा है कि ऐसी परिस्थिति में आलाकमान की नीतियों को देखते हुए जिले की बागडोर एक ऐसे व्यक्ति को सौंपी जा सकती है जिसके शिक्षा m.a. B.Ed और वह छात्र राजनीति में 1985 से लेकर 1991 तक सक्रीय रहा है ऐसे व्यक्ति का नाम है श्याम राज तिवारी 1990 में राम मंदिर आंदोलन से जुड़े और भाजपा के प्राथमिक सदस्य बने 1992 में कारसेवकों के साथ गाजीपुर जेल में 4 दिन का कारावास सन 2000 में मंडल महामंत्री बाराचवर भाजपा के नियुक्त हुए और 2003 से लेकर 2012 तक सहकारी प्रकोष्ठ के जिला संयोजक रहे 2012 से 2015 तक जिला उपाध्यक्ष भाजपा के पद को सुशोभित किया 2015 से वर्तमान में भी भाजपा के जिला महामंत्री है इनको भाजपा के साथ कार्य करने का लंबा अनुभव है जिसका जिले को लाभ मिलेगा इसके अलावा पिछले नगर निकाय चुनाव में जिला संयोजक की भूमिका निभा चुके हैं 2019 के लोकसभा चुनाव में बलिया के सहसंयोजक और जहूराबाद के पूर्व विधानसभा प्रभारी तथा जिला संपर्क प्रमुख आदि पदों पर लंबे समय तक काम किया है इनके अलावा रिद्वि नाथ पाण्डेय जो वरिष्ठ भाजपा नेता है एवं युवा नेता अनिल पाण्डेय जो जिला पंचायत प्रतिनिधि है पर भी भाजपा दाँव खेल सकती है।